Saturday, May 28, 2022
Homeउत्तर प्रदेशपारीछा पावर प्लांट में सिर्फ एक दिन का कोयला बचा, बढ़ेगा बिजली...

पारीछा पावर प्लांट में सिर्फ एक दिन का कोयला बचा, बढ़ेगा बिजली संकट : Coal Runs out in Jhansi Parichha Power Plant

ललितपुर के बजाज पावर प्लांट में भी सिर्फ एक दिन का ही कोयला बचा हुआ है। अगर जल्द ही कोयला नहीं मिला तो यहां भी बिजली उत्पादन कम हो जाएगा। इससे बिजली उत्पादन का संकट गहरा सकता है।

इंडिया न्यूज, झांसी : Coal Runs out in Jhansi Parichha Power Plant कोयले की कमी से जूझ रहे पारीछा थर्मल पावर प्लांट के सामने एक बार फिर संकट गहराने लगा है। स्थिति यह है कि झांसी के पारीछा थर्मल पावर प्लांट में बिजली उत्पादन के लिए सिर्फ एक दिन (One Day)का ही कोयला (coal) बचा है। वहीं, ललितपुर के बजाज पावर प्लांट में भी मात्र पांच दिनों के लिए ही कोयला शेष है। ऐसे में भीषण गर्मी में बिजली संकट गहरा सकता है।

हर रोज 16 हजार टन कोयले की जरूरत

Coal Runs out in Jhansi Parichha Power Plant

पारीछा पावर प्लांट में बिजली उत्पादन के लिए प्रतिदिन 16 हजार टन कोयले की जरूरत होती है, लेकिन कोयले की कमी के कारण सिर्फ एक रैक 3800 टन ही मिला है। इससे बिजली उत्पादन पर असर पड़ सकता है। अगर समय से कोयला नहीं मिला तो यूनिट बंद भी हो सकती है। उधर, ललितपुर के बजाज पावर प्लांट में भी सिर्फ पांच दिनों का ही कोयला बचा हुआ है। अगर जल्द ही कोयला नहीं मिला तो यहां भी बिजली उत्पादन कम हो जाएगा। इससे बिजली उत्पादन का संकट गहरा सकता है।

Also Read : पुलिस ने होटल में छापेमारी पर युवक-युवतियों ने खुद को किया कमरों में बंद, कार्रवाई से मचा हड़कंप : Firozabad Police caught Seven Lovers from the Hotel

पारीछा थर्मल पावर प्लांट की चार इकाइयां Coal Runs out in Jhansi Parichha Power Plant 

वर्तमान में पारीछा थर्मल पावर प्लांट की चार इकाइयां हैं, जिनसे मांग के अनुसार प्रतिदिन 910 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाता है। वहीं, कोयले की कमी होने पर 510 और 710 मेगावाट बिजली का उत्पादन ही हो पाता है। इससे 400 से 200 मेगावाट की बिजली के उत्पादन में कमी हो जाती है।

पारीछा थर्मल पावर प्लांट मुख्य महा प्रबंधक एमके सचान में सिर्फ एक दिन का कोयला बचा हुआ है। बुधवार को सिर्फ एक रैक 3800 टन कोयला मिला है, जबकि 910 मेगावाट बिजली के उत्पादन के लिए प्रतिदिन 16 हजार टन कोयले की जरूरत होती है। कोयले की कमी के कारण बिजली का उत्पादन भी दिन में 510 और रात में 710 मेगावाट किया जा रहा है।

Also Read : बाइकर्स गैंग ने सराफा कारोबारी को गोली मार बैग लूटा : Bikers Gang shot Bullion Trader in Firozabad

Connect With Us : Twitter Facebook

 

SHARE
Ajay Dubey
India News Senior Sub Editor. Danik jagran & Amarujala as a City & Crime Reporter 15 Years.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular