Friday, December 9, 2022
Homeउत्तर प्रदेशKashi-Tamil Sangamam: वाराणसी पहुंचे शैव मठाधीश, किए बाबा विश्वनाथ के दर्शन

Kashi-Tamil Sangamam: वाराणसी पहुंचे शैव मठाधीश, किए बाबा विश्वनाथ के दर्शन

- Advertisement -

Kashi-Tamil Sangamam

इंडिया न्यूज, वाराणसी (Uttar Pradesh): काशी तमिल संगमम कार्यक्रम में शामिल होने के लिए नौ आधीनम वाराणसी पहुंच गए हैं। इस कार्यक्रम में पीएम भी मौजूद रहेंगे । डमरुओं के डम-डम और ‘हर-हर महादेव’ के जयघोष के बीच काशी विश्वनाथ मंदिर में आधीनम का भव्य स्वागत किया गया। इस दौरान केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद थे । उन्होंने कहा कि काशी और तमिल समुदाय के बीच सदियों से एक पुराना रिश्ता रहा है। अब इस रिश्ते को नई दिशा दी जा रही है।

दो संस्कृतियों का अनोखा संगम

काशी तमिल संगमम की पूर्व संध्या पर काशी में दो संस्कृतियों का महामिलन देखा गया। नौ रत्नों की तरह नौ शैव मठाधीशों का काशी नगरी ने अपनी परम्पराओं के अनुसार भव्य स्वागत किया गया। काशी विश्वनाथ धाम के बाबा दरबार में हाजिरी लगाने पहुंचे सभी आधीनम का स्वागत मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने किया। शैव मठाधीशों के आगमन पर भव्य विश्वनाथ कॉरिडोर ‘हर-हर महादेव’ के जयघोष से गूंज उठा। इस अवसर पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री धमेंद्र प्रधान ने कहा कि भव्य काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में आप सबका स्वागत है इसलिए काशी तमिल संगमम का यह आयोजन ऐतिहासिक होने जा रहा है।

काशी-तमिल का पुराना रिश्ता

धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि काशी और तमिल के बीच सदियों पुराने रिश्ते को नई दिशी दी जा रहाी है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन के जरिए कवि सुब्रमण्यम भारती जी को सच्ची श्रद्धांजलि दी जाएगी। सभी ने बाबा काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग का दर्शन किया। धर्मगुरुओं ने कहा कि काशी तमिल संगमम के पुण्य बेला पर ही काशी नगरी आने का अवसर मिला है। आधीनम ने कहा कि मां गंगा के तट पर बसी भोलेनाथ की यह नगरी अद्भुत है। आधिनम ने कहा कि छठी शताब्दी में उनके मठ के प्रतिनिधि काशी आए थे। धर्मपुरम आधीनम मठ और काशी का गहरा संबंध रहा है।

यह भी पढ़ें : Inspector suicide case: महिला कांस्टेबल दरोगा पर पत्नी को तलाक देकर शादी करने का बना रही थी दबाव, महिला कांस्टेबल सस्पेंड

Connect Us Facebook | Twitter

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular