Wednesday, May 25, 2022
HomeKaam Ki BaatMobile Internet Speed भारत की रैंकिंग में हुआ सुधार, जानिए क्या है...

Mobile Internet Speed भारत की रैंकिंग में हुआ सुधार, जानिए क्या है रिपोर्ट

इंडिया न्यूज़, नई दिल्ली :

Mobile Internet Speed: क्या आपको पता है भारत में मोबाइल और इंटरनेट स्पीड की इस समय स्थिति क्या है। यह खबर सुनकर आपको खुशी होगी कि, भारत ने वैश्विक स्तर पर मोबाइल और फिक्स्ड ब्रॉडबैंड स्पीड दोनों के लिए दी जाने वाली औसत इंटरनेट स्पीड की रैंक में छलांग लगाई है। Ookla, जो की एक स्पीड टेस्ट प्लेटफॉर्म है, जो बेस्ट इंटरनेट स्पीड की पेशकश के मामले में सभी देशों का परफॉर्मेंस इंडेक्स मेंटेन रखता है। इसके मंथली अपडेट में, भारत प्रगति करता दिख रहा है। हालांकि यह बहुत बड़ी प्रगति नहीं है, फिर भी ठीक-ठाक है।

भारत में मोबाइल और ब्रॉडबैंड स्पीड (Mobile Internet Speed)

Mobile Internet Speed

मोबाइल के लिए, ऊकला ने कहा कि भारतीयों की औसत इंटरनेट स्पीड 14.18 Mbps है और देश भारत इसमें एक स्थान ऊपर यानी 115वें स्थान पर पहुंच गया है। फिक्स्ड ब्रॉडबैंड के मामले में, भारत ने दो रैंक ऊपर छलांग लगाई और अब 48.14 Mbps औसत इंटरनेट स्पीड की पेशकश करते हुए 70वें स्थान पर पहुंच गया है। हालांकि यह कुछ प्रगति हो सकती है, यूज़र्स को सर्वश्रेष्ठ इंटरनेट अनुभव प्रदान करने में भारत अभी भी कई देशों से पीछे है।

इन देशो ने स्पीड के मामले में प्राप्त किया यह स्थान (Mobile Internet Speed)

मोबाइल सेगमेंट में लिस्ट में सबसे ऊपर संयुक्त अरब अमीरात (UAE) है जो 133.51 Mbps औसत डाउनलोड स्पीड प्रदान करता है। नॉर्वे 118.58 Mbps औसत डाउनलोड स्पीड के साथ दूसरे स्थान पर है। किसी देश में रहने वाले लोगों की संख्या जैसी चीजों से भी बहुत फर्क पड़ता है।

भारत की तुलना में नॉर्वे और यूएई की आबादी अपेक्षाकृत कम है। इस प्रकार उपयोगकर्ताओं के लिए बहुत अधिक औसत डाउनलोड स्पीड प्राप्त करने के लिए बैंडविड्थ क्षमता पर्याप्त है।

चिली को मिला अवल स्थान (Mobile Internet Speed)

फिक्स्ड ब्रॉडबैंड सेगमेंट में, चिली ने 197.59 Mbps औसत डाउनलोड स्पीड की पेशकश करके पहला स्थान हासिल करने के लिए दो रैंक की छलांग लगाई है। सिंगापुर 194.07 Mbps औसत डाउनलोड स्पीड की पेशकश करने वाले दूसरे स्थान पर है।

फिक्स्ड ब्रॉडबैंड क्षेत्र में, भारत में अभी भी सुधार की बहुत गुंजाइश है। देश के बहुत से ऐसे क्षेत्र हैं जहां ऑप्टिकल फाइबर अभी तक तैनात नहीं किया गया है। समय के साथ, भारत के आंकड़ों में उल्लेखनीय सुधार देखने की उम्मीद है। देश में दूरसंचार ऑपरेटर और इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स अपने नेटवर्क और सर्विसेस में आक्रामक अपग्रेडेशन कर रहे हैं।

(Mobile Internet Speed)

Also Read : Google pay दे रहा 1 लाख रुपये का पर्सनल लोन, जानिए कैसे मिलेगा लोन

Connect With Us: Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular