Thursday, February 2, 2023
Homeउत्तर प्रदेशPolitics : आप सासंद संजय सिंह ने पूछा, 'काशी में क्रूज, धर्म...

Politics : आप सासंद संजय सिंह ने पूछा, ‘काशी में क्रूज, धर्म के नाम पर धंधा?’

आम आदमी पार्टी के राज्य सभा सांसद और यूपी के प्रभारी संजय सिंह ने सरकार से क्रूज को और पर्यटन को लेकर सवाल किया है ट्वीट कर सवाल पूछा है.

- Advertisement -

लखनऊ: वाराणसी में कल पीएम मोदी ने दुनिया की सबसे लंबी यात्रा तय करने वाली रिवर क्रूज को वर्चुअली हरी झंडी दिखाई थी. उन्होंने वाराणसी के गंगा किनारे बने टेंट सिटी का भी उद्घाटन किया था वही कई सौ करोड़ की परियोजनाओं की नीव रखी थी.

पीएम मोदी ने इस अवसर पर कहा था कि इससे काशी का शतत विकास होगा और नाविकों समेत अन्य लोगों के जीवन को बल मिलेगा. वाराणसी से डिब्रूगढ़ जाने वाली एमवी गंगा विलास क्रूज को लेकर अब राजनीति शुरु हो गई है. इस क्रूज के सहारे विपक्ष के तमाम नेता सरकार पर निशाना साध रहें हैं और सवाल कर रहें है.

आम आदमी पार्टी के राज्य सभा सांसद और यूपी के प्रभारी संजय सिंह ने सरकार से क्रूज को और पर्यटन को लेकर सवाल किया है. आप नेता संजय सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि “काशी में क्रूज, किराया मात्र 25 से 50 हज़ार रू प्रतिदिन टोटल यात्रा पैकेज 12 लाख. धर्म के नाम पर धंधा.” संजय सिंह ने ये ट्वीट ठीक क्रूज की रवानगी के बाद किया है. कल ही क्रूज को पीएम मोदी ने हरी झंडी दिखा कर रवाना किया था.

जानकारी हो कि क्रूज को लेकर सपा मुखिया अखिलेश यादव भी सरकार से सवाल कर चुके हैं. पूर्व सीएम ने नाविकों की आजिविका को लेकर कई सवाल किए. वही उन्होंने ट्वीट कर कहा कि था कि ” अब क्या भाजपा नाविकों का रोज़गार भी छीनेगी. भाजपा की धार्मिक स्थलों को पर्यटन स्थल बनाकर पैसे कमाने की नीति निंदनीय है. पूरी दुनिया से लोग काशी का आध्यात्मिक वैभव अनुभूत करने आते है; विलास-विहार के लिए नहीं. भाजपा बाहरी चकाचौंध से असल मुद्दों के अंधेरों को अब और नहीं ढक पायेगी.

गौरतलब है कि सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक इस जलमार्ग की योजना का शुभारंभ कल यानी की 13 जनवरी को किया गया था. इस कार्यक्रम में सीएम योगी ने कहा था कि इस योजना से स्वावलंबन को बल मिलेगा. ये क्रूज आत्मनिर्भर भारत की मिशाल है. ये जल परियोजना का उदाहरण है जो कि कई राज्यों को एक साथ जोड़ने जा रही है.

ये भी पढ़ें- Banda News : दंपति ने जहरीला पदार्थ खा दी जान, बच्चे हुए अनाथ

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular