Tuesday, December 6, 2022
Homeउत्तर प्रदेशManch: कब होगी सास कृष्णा पटेल से सुलह? मंत्री आशीष पटेल ने...

Manch: कब होगी सास कृष्णा पटेल से सुलह? मंत्री आशीष पटेल ने किया बड़ा खुलासा

- Advertisement -

Manch

इंडिया न्यूज, लखनऊ (Uttar Pradesh) । उत्तर प्रदेश में योगी सरकार 2.0 कार्यकाल के छह महीने पूरे हो चुके हैं। सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल में अब तक विकास के क्या आयाम गढ़े हैं, जनता की उम्मीदों पर कितना खरा उतर सकी है…ऐसे तमाम सवालों के जवाब जानने के लिए इंडिया न्यूज यूपी/यूके ने राजधानी लखनऊ में मंच कार्यक्रम किया। इसमें पहुंचे तकनीकी शिक्षा और उपभोक्ता संरक्षण विभाग के मंत्री आशीष पटेल ने कई मुद्दों पर जनता से जुड़े सवालों का जवाब दिया।

‘दूसरे के सिंबल पर चुनाव लड़ने वाला विरासत की क्या बात करेगा’
आशीष पटेल ने अपनी सास कृष्णा पटेल के साथ चल रहे पारिवारिक और राजनीतिक विरासत की लड़ाई की असली वजह का भी खुलासा किया। मंत्री आशीष ने कहा, ‘अपना दल के संस्थापक डॉक्टर सोनेलाल पटेल की 2009 में दुखद मृत्यु हुई। उसके बाद जनता ने किसको नेतृत्व सौंप दिया है, उसे बताने की आवश्यकता नहीं है। सोने लाल पटेल ने कभी दूसरे के सिंबल पर चुनाव नहीं लड़ा। उन्होंने परिणाम की कभी परवाह नहीं की। जिस किसी ने दूसरे के सिंबल पर चुनाव लड़ लिया, वह विरासत की बात क्या करेगा।’

बता दें कि कृष्णा पटेल का अपना अलग संगठन अपना दल (कमेरावादी) है। 2022 के विधानसभा चुनाव में उनकी बेटी पल्लवी पटेल ने कौशांबी जिले की सिराथू सीट से सपा के सिंबल पर चुनाव लड़ा था। पल्लवी ने यूपी के डिप्टी सीएम केशव मौर्य को हराया था।

क्या पल्लवी पटेल से कभी ट्यूनिंग बनेगी? इस सवाल के जवाब में आशीष पटेल ने कहा, ‘जब राजनीतिक लड़ाई होती है तो ट्यूनिंग बन जाती है। जब धोखे की बात हो तो ट्यूनिंग बनने में लंबा समय लगता है। इस लड़ाई में सबसे अहम कड़ी डॉक्टर सोनेलाल पटेल की छोटी बेटी अमन पटेल है। जिस दिन संपत्ति में उसे कृष्णा पटेल हिस्सा दे देंगी उस दिन लड़ाई खत्म हो जाएगी।’

‘NDA से हमारा अटूट गठबंधन, आगे भी मिलकर लड़ेंगे चुनाव’
आशीष पटेल ने कहा, ‘अपना दल का जो गठन हुआ था वह वंचित, शोषित और कमेरा समाज को उनका हक दिलाने के लिए आंदोलन की तरह हुआ है। हमारे संस्थापक डॉक्टर सोनेलाल पटेल ने एक आंदोलन शुरू किया था। उनके निधन के बाद हमारी अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने उस आंदोलन को राजनीति पहचान दिलाई है। यूपी में एक मान्यता प्राप्त दल के रूप में इस चुनाव के बाद खड़ी हुई है। अपना दल 2014 से एनडीए के साथ है। 2014 और 2017, 2019 और 2022 का चुनाव हमने साथ मिलकर लड़ा है। आगे भी अपना दल अटूट होकर लड़ेगी। हमारे दिल्ली में मोदीजी और प्रदेश में योगजी हमारे नेता हैं।’

‘सरकार पॉलिटेक्निक में साइबर सिक्योरिटी कोर्स लेकर आई’
आशीष पटेल ने कहा, ‘मेरे पास तकनीकी शिक्षा और दूसरा विभाग उपभोक्ता संरक्षण है। यूपी में डिप्लोमा सेक्टर के 147 पॉलीटेक्निक हैं। 1200 प्राइवेट पॉलिटेक्निक हैं। क्वालिटी एजुकेशन कैसे आए, उसके लिए प्रयास किया है। पॉलिटेक्निक कॉलेजों में सबसे ज्यादा ग्रामीण क्षेत्र से बच्चे आते हैं। ऐसे बच्चों को रोजगार कैसे मिले, यह मेरी पहली प्राथमिकता है। विभाग ने 4 नए रोजगार परक कोर्सेज शुरू किए हैं। साइबर सिक्योरिटी जैसे विषय लेकर आए हैं। इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए धन का आवंटन किया। पॉलिटेक्निक में गुणवत्तापूर्ण फार्मेसी कॉलेजों के लिए गाइडलाइन बनाई है। पॉलिटेक्निक के साथ डिग्री देने वाले कॉलेजों में क्वालिटी कैसे बेहतर किया जाए। इसके लिए मान्यता देने में सबसे ज्यादा सावधानी बरत रहे हैं। टीचर्स को अच्छा वेतन मिले, तभी अच्छे टीचर मिल पाएंगे। इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार धीरे धीरे ही आएगा। इसी तरह शहरीकरण पर सबसे ज्यादा फोकस किया जा रहा है।’

‘मिर्जापुर इंडस्ट्री का हब बनने जा रहा’
आशीष पटेल ने कहा, ‘2014 के पहले का मिर्जापुर और अब के मिर्जापुर में बहुत अंतर है। विंध्य कॉरिडोर, वाराणसी से नारायण जाने में 5 घंटे लगते थे अब 5 मिनट लगते हैं। मेडिकल कॉलेज बन चुका है। केंद्रीय विद्यालय बन चुका है। अगले 5 साल में मिर्जापुर इंडस्ट्री का हब बनने जा रहा है। हम केंद्र और प्रदेश सरकार में सहयोगी हैं। विकास सतत प्रक्रिया है। जहां लगता है कि विकास के लिए सुझाव की आवश्यकता है, फिर समय-समय पर सुझाव देते हैं। 69 हजार शिक्षक भर्ती का मसला था, उसे हमारी नेता ने भाजपा शीर्ष नेतृत्व के सामने रखा। जल्द वह समस्या सुलझ जाएगी।

‘नीतीश कुमार हों या कोई और, हर किसी को चुनाव लड़ने का हक’
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी की यूपी के पूर्वांचल में बढ़ती सक्रियता पर आशीष पटेल ने कहा कि 2022 और 2019 के चुनाव में सपा-बसपा से बड़ा कोई गठबंधन नहीं था। 2019 में एनडीए ने जो सफलता प्राप्त की, वह किसी से छिपा नहीं है। जब जनता के लिए काम करे तो कोई भी चुनाव लड़ सकता है। हम 80 सीट जीतने जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: डिप्टी सीएम केशव बोले- मेरी मां ने 5 हजार रुपए के लिए गिरवी रख दी थी जमीन, अखिलेश को बताया चुनावी भतीजा

यह भी पढ़ें: भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी बोलीं- MSME में लड़कियां आगे आ रहीं, 80% लोन उन्हीं के नाम

यह भी पढ़ेंकेन्द्रीय राज्यमंत्री कौशल किशोर ने मायावती पर बोला बड़ा हमला- मायावती ने पार्टी को बनाया प्रॉपटी

Connect Us Facebook | Twitter

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular