Sunday, November 27, 2022
Homeउत्तर प्रदेशअयोध्या: श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने जारी की निर्माणाधीन मंदिर की तस्वीरें,...

अयोध्या: श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने जारी की निर्माणाधीन मंदिर की तस्वीरें, भक्तों में बढ़ी उत्सुकता

- Advertisement -

इंडिया न्यूज यूपी/यूके, अयोध्या: भागवान राम जी के मंदिर का इंतजार लोग जोरों के कर रहे हैं। ऐसे में खुशखबरी की बात यह है कि राम मंदिर के निर्माण का 45 फीसदी कार्या पूरा हो गया है। श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपतराय ने बुधवार को मंदिर निर्माण के कई आकर्षक चित्र जारी किए हैं। ट्वीटर पर चित्र देखकर लगातार लोगो कमेंट और लाइक कर रहे हैं। लोगों के बीच मंदिर को लेकर उत्सुकता बढ़ती दिखाई पड़ रही है।

जानकारी के मुताबिक दिसंबर 2023 तक रामलला का भव्य दिव्य गर्भगृह बनकर तैयार हो जाएगा। साथ ही मंदिर का प्रथम तल भी पूरा हो जाएगा। इसी के बाद शुभ मुहूर्त पर श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट रामलला को उनके नए मंदिर के गर्भगृह में प्रतिष्ठित करने का आयोजन करेगा। फिर भक्त नए गर्भगृह में रामलला का दर्शन पूजन कर सकेंगे। श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपतराय ने बुधवार को मंदिर निर्माण के कई आकर्षक चित्र जारी किए हैं।

मंदिर के हर तल पर होंगे 14-14 दरवाजे
जानकारी के मुताबिक भागवान राम मंदिर के निर्माण का करीब 40 फीसदी काम पूरा हो चुका है। मंदिर में सभी दरवाजों पर खास तरह की आकृतियां होंगी, जैसे कलश, सूर्य, चक्र, शंख, गदा और विविध फूल। साथ ही दरवाजे करीब नौ फीट उंचे औऱ सात फीट ऊंचे होंगे। मंदिर के प्रत्येक फलोर पर 14-14 दरवाजे होंगे। दरवाजों के निर्माण के लिए महाराष्ट्र से खास कारीगरों को बुलाया गया है।

तेजी से चल रहा मंदिर का निर्माण कार्य
गर्भगृह में निर्मित किए जाने वाले छह खंभों का निर्माण भी शुरू है। ये मकराना के मार्बल से बनाया जा रहा है। मार्बल के खंभेनुमा पीस को एक दूसरे में जोड़कर तैयार किया जा रहा है। ये खंभे 19.3 फीट ऊंचे होंगे। ट्रस्ट के एक सदस्य ने बताया कि इसके अतिरिक्त मुख्य मंदिर के गर्भगृह में फर्श, मेहराब, रैलिंग, दरवाजे के फ्रेम सफेद मकराना मार्बल से ही तैयार किए जाएंगे। इनकी खरीद व गढ़ाई शुरू है।

मंदिर में हमेशा बनी रहेगी शीतलता
गर्भभगृह की दीवारों पर भीतर की ओर पंजाब की छिद्रयुक्त विशेष ईटें प्रयुक्त की जा रही हैं। इसमें 11 लाख ईटें लगेंगी। इसके प्रयोग से गर्भगृह में धूप का प्रभाव कम होगा और हमेशा ही शीतलता बनी रहेगी।

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular