Friday, December 9, 2022
Homeउत्तराखंडUttarakhand: सचिवालय से बर्खास्त 228 कर्मियों को हाईकोर्ट से झटका, ऋतु खंडूरी...

Uttarakhand: सचिवालय से बर्खास्त 228 कर्मियों को हाईकोर्ट से झटका, ऋतु खंडूरी बोलीं- सत्य पराजित नहीं हो सकता

- Advertisement -

Uttarakhand

इंडिया न्यूज, नैनीताल (Uttarakhand) । विधानसभा बैकडोर भर्ती मामले में आज गुरुवार को नैनीताल हाईकोर्ट ने तदर्थ कर्मियों को मिले स्टे पर रोक लगा दी। स्पीकर ऋतु खंडूरी ने इस फैसले की पुष्टि की। मिली जानकारी के मुताबिक विधानसभा से तदर्थ कर्मचारियों को हटाने के आदेश पर हाईकोर्ट की सिंगल बैंच द्वारा रोक लगाने संबंधी आदेश को हाईकोर्ट की डबल बैंच ने आज निरस्त कर दिया है।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि उनके द्वारा प्रदेश में एक पारदर्शी और विधानसभा जैसी प्रतिष्ठित संस्था की स्वच्छ छवि बनाने के लिए कड़ा कदम उठाया गया, जिस पर वह लगातार अडिग हैं। उन्होंने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि सत्य थोड़ा परेशान जरूर हो सकता है लेकिन पराजित नहीं हो सकता है।

विधानसभा अध्यक्ष ने कर्मियों को हटाया था
विधानसभा सचिवालय में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल द्वारा की गई 150 और प्रेमचंद अग्रवाल द्वारा की गई 78 तदर्थ नियुक्तियों को वर्तमान विधासनभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी की सिफारिश पर शासन ने रद्द कर दिया था, जिसके बाद इन कर्मचरियों को नौकरी से हटा दिया गया था।

इस फैसले के खिलाफ ये कर्मचारी हाईकोर्ट गए। हाईकोर्ट में न्यायाधीश न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की एकलपीठ ने विधानसभा सचिवालय से हटाए गए कर्मचारियों की बर्खास्तगी पर अग्रिम आदेश तक रोक लगा दी थी। इस आदेश के खिलफ सरकार डबल बैंच में गई थी।

गौरतलब है कि हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने तदर्थ कर्मियों को हटाए जाने को गलत बताते हुए स्टे दे दिया था। एकल वेंच के स्टे सम्बन्धी फैसले के विरोध में विधानसभा प्रशासन ने डबल बेंच में अपील की थी।

इस अपील पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने विधानसभा स्पीकर ऋतु खंडूडी के फैसले को सही ठहराते हुए स्टे खारिज कर दिया। उल्लेखनीय है कि पूर्व आईएएस कोटिया की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय एक्सपर्ट कमेटी की रिपोर्ट के बाद विस अध्यक्ष ऋतु खण्डूरी ने सितम्बर माह में 2016 से 2021 तक विधानसभा में नियुक्त हुए 200 से अधिक तदर्थ कर्मियों को हटा दिया था। इस फैसले के विरोध में तदर्थ कर्मी हाईकोर्ट से स्टे ले आये थे। लेकिन उन्हें विधान सभा में जॉइन नहीं करवाया गया। आज हाईकोर्ट की डबल बेंच ने स्टे पर रोक लगाते हुए तदर्थ कर्मियों को झटका दे दिया।

यह भी पढ़ें: सीएम धामी बोले- बंदरों से बागवानी और खेती को हो रहा बड़ा नुकसान, चिंतन शिविर में हुए अहम फैसले

यह भी पढ़ें: लखनऊ से अपहरण, हरियाणा में चाकू की नोक पर धर्मांतरण और निकाह के नाम पर बार-बार किया रेप

यह भी पढ़ें: योगीराज में अब तक 62 अपराधियों से ढाई हजार करोड़ की संपत्ति जब्त, मुठभेड़ में 9 मारे गए

Connect Us Facebook | Twitter

 

SHARE
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular